मेडबंदी योजना 2022 | मेडबंदी के लिए अनुदान राशि व सूची [ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन]

भूमि के अंदर जल के स्त्रोत में वृद्धि करनें तथा वर्षा के जल का समुचित प्रयोग करनें के लिए पूरे देश अटल भू जल योजना अभियान संचालित किया जा रहा है | इसके लिए सरकार द्वारा वर्षा के जल को उसी स्थान पर एकत्र करनें के लिए सभी को प्रोत्साहित किया जा रहा है | विभिन्न प्रकार के किये गये सर्वेक्षणों से इस बात की पुष्टि हो चुकी है, कि भूमिगत जल स्त्रोतों का सबसे अधिक उपयोग सिंचाई में किया जाता है | जिसके कारण सरकार द्वारा सिंचाई के नये स्त्रोतों को बनानें के लिए सर्वाधिक जोर दिया जा रहा है |

मेडबंदी योजना (Medbandi Scheme) से सम्बंधित जानकारी

इसके लिए हाल ही में सरकार द्वारा एक नई योजना का शुभारम्भ किया है, जिसका नाम मेडबंदी योजना 2022 है | इस स्कीम के अंतर्गत किसान भाईयों द्वारा अपनें खेतों पर मेड़ बनाकर वर्षा के जल को एकत्र किया जाएगा और इस जल का उपयोग दूसरे खेत की फसल की सिंचाई की जाएगी | मेडबंदी योजना 2022 क्या है ? इससे सम्बंधित जानकारी देने के साथ ही आपको यहाँ मेडबंदी के लिए अनुदान राशि व सूची [ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन] के बारें में बताया जा रहा है |

चारा और चारा विकास योजना क्या है

मेड़बंदी किसे कहते है (Medbandi Kise Kahate Hai)

यदि हम साधारण भाषा में बात करे, तो मेड़बंदी का मतलब खेत को चारों से मिट्टी की एक ऊँची और मोटी सतह बनाना है | जिस प्रकार हम अपनें घर को चारों तरफ से दीवारों से घेर देते है | इसमें सिर्फ इतना अन्तर है, कि घर चार दीवारी बनाते को बनानें में हमें विभिन्न प्रकार की सामग्री की आवश्यकता होती है परन्तु जब हम मेड़बंदी करते हैं, तो इसमें सिर्फ खेत की मिट्टी का उपयोग किया जाता है |

मेड़बन्दी योजना 2022 क्या है (Medbandi Scheme in Hindi )

मेडबंदी योजना 1 एकड़ कृषि योग्य भूमि को एक इकाई मानकर कार्यान्वित की जायेगी, जिसमें पानी को एकत्र करनें के चयनित 5 माडलों में से किसान अपनी इच्छानुसार किसी 1 मॉडल पर काम कराया जायेगा | जबकि शेष भूमि विभिन्न प्रकार की फसल, फलदार वृक्ष, कृषि वानिकी (Agro forestry) एवं बायो-फेसिंग के लिए भूमि निर्धारित करने के लिए किसान भाई पूर्ण रूप से स्वंतत्र होंगे | जिसके लिए आच्छादित रकवा के अनुसार समानुपातिक अनुदान देय होगा | पांच हेक्टेयर से अधिक के क्षेत्र में मेडबंदी स्कीम का कार्यान्वयन समूह में कराया जायेगा | इसके लिए सरकार द्वारा प्रति इकाई के हिसाब से 75,000 रूपये तक का अनुदान दिया जायेगा |

मेडबंदी योजना का क्रियान्वन (Medbandi Scheme Implementation)

मेडबंदी स्कीम के अंतर्गत इस वर्ष वर्षा के जल को खेत में संरक्षित करने के लिए कृषि निदेशालय (Directorate of Agriculture), उद्यान निदेशालय (Horticulture Directorate) एवं भूमि संरक्षण निदेशालय (Directorate of Land Conservation) द्वारा समेकित रूप से स्कीम के अंतर्गत आने वाले सभी कार्यों को कराया जायेगा | इस स्कीम का क्रियान्वयन जिला कृषि अधिकारी के संरक्षण में किया जायेगा | इसके अलावा जिला कृषि अधिकारी को भूमि संरक्षण निदेशालय एवं उधान निदेशालय के पदाधिकारियों द्वारा तकनीकी सहयोग प्रदान किया जायेगा | हालाँकि इस स्कीम का लाभ लेने के लिए किसान भाइयों को कृषि विभाग के पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन अनिवार्य रूप से कराना होगा |  

मेड़बन्दी योजना 2022 से लाभ (Medbandi Scheme Benefits)

मेड़बंदी से किसान भाइयों को कई प्रकार के फायदे मिलेंगे | सबसे बड़ी बात यह है, कि अपनी फसलों को पानी देने के लिए किसी प्रकार की चिंता नही होगी क्योंकि उनके पास पहले से पानी उपलब्ध होगा | इसके अलावा उन्हें अपनी फसलों को पानी देने में बहुत ही आसानी होगी| मेडबंदी करनें के पश्चात वर्षा होनें पर पानी उनके खेतों में भर जाता है, जिससे भूमि में नमीं की मात्रा बढ़ जाती है | इसके अलावा भूमि के नीचे के पानी का स्तर भी बढ़ता है | इसके अतिरिक्त मेडबंदी कराने से उन्हें अपनें खेतों की नपाई करनें आसानी होती है | चूँकि इसके लिए सरकार से अनुदान भी मिलता है, जिसके कारण किसानों की भूमि का ब्यौरा सरकार के पास रिकार्ड के रूप में रहता है |

मेड़बन्दी योजना के अंतर्गत सरकार की पहल (Merbandi Scheme Government Initiatives)

मेड़बंदी स्कीम के अंतर्गत सरकार द्वारा किसानों को कई तरीकों सेप्रोत्साहित करनें का कार्य भी किया जा रहा है | इसके लिए सरकार द्वारा पैसे भी दिए जा रहे है और खेत पर बनायीं गयी मेड पर लगाने के लिए पौधे भी दे रही है | सरकार की तरफ से दिए जानें वाले यह सभी पौधे ऐसे होनें जो उनकी आय को बढ़ाकर उन्हें समृद्ध बना सकें |

मेड़बंदी योजना के अंतर्गत किसान भाइयों को अपने खेत की मेड पर कम से कम 50 पौधे लगाने होंगे | हालाँकि वह अपनी इच्छा के मुताबिक इससे अधिक पौधे भी लगा सकते है | पौधौ को लगानें के लिए सरकार द्वारा 1 पौधे की लागत 70 रुपए मानी गयी है | जिसमें किसानों को पौधे लगानें के लिए गड्ढे खोदना, पौधे की लागत, पौधे के लिए उपयुक्त उर्वरक, पौधे की सुरक्षा के लिए तारबंदी और उसका रखरखाव यह सभी कुछ करना होगा |      

अच्छी फसल के लिए बारिश के पानी की आवश्यकता

कृषि विभाग के मुताबिक जून के महीनें में खेती करनें के लिए किसान भाइयों को लगभग 200 मिलीमीटर वर्षा के जल की आवश्यकता होती है | मानसून के आने से पहले ही लगभग 4 मिलीमीटर से अधिक वर्षा हो चुकी है | जो खेती करनें वाले किसानों के लिए एक अच्छा संकेत है | ऐसे में यदि किसान भाई बारिश से पहले मेडबंदी करनें में सफल हो जाते है, तो वह अपने खेतों में फसलों से अच्छा उत्पादन प्राप्त कर सकते है | इसके अलावा यदि आप मेडबंदी नहीं करा पाते है, तो पहले बनी हुई मेड को निश्चित रूप से ठीक कर ले क्योंकि बारिश के शुरू होनें के यह संभव नहीं होगा | मेडबंदी योजना का मुख्य उद्देश्य किसानों भाइयों को अपने खेतों पर मेड बनाकर वर्षा के पानी को एकत्र किया जायेगा, इसके पश्चात एकत्र वर्षा के जल को किसान को दूसरे खेत की फसल की सिंचाई करना है |

खाद बीज लाइसेंस उत्तर प्रदेश योजना

मेडबंदी योजना 2022 ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कैसे करे (Merbandi Scheme 2022 Online Registration Process)

आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि मेडबंदी योजना 2022 का संचालन जलशक्ति मंत्रालय के द्वारा किया जा रहा है | इस स्कीम से जुड़ी अधिक जानकारी प्राप्त करनें तथा अनुदान प्राप्त करनें के लिए आप जलशक्ति मंत्रालय की ऑफिशियल वेबसाइट https://jalshakti-ddws.gov.in/ पर जाकर देख सकते है |

तारबंदी योजना ऑनलाइन आवेदन फॉर्म

Leave a Comment