जीरो बजट (Zero Budget) खेती क्या है ? जीरो बजट नेचुरल फार्मिंग कैसे करे – सुभाष पालेकर जीवामृत

जीरो बजट फार्मिंग में किसी प्रकार के केमिकल युक्त खाद और कीटनाशकों का उपयोग करनें की आवश्यकता नही होती है | जीरो बजट के अंतर्गत उगाई गई फसले हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होती है | जीरो बजट (Zero Budget) खेती क्या है ?जीरो बजट नेचुरल फार्मिंग कैसे करे – सुभाष पालेकर जीवामृत के बारें में यहाँ विस्तार से बताया जा रहा है |

जीरो बजट (Zero Budget) खेती से सम्बंधित जानकारी

अपने स्वास्थ्य को बेहतर बनाये रखनें के लिए लोग खाने-पीने की चीजों पर विशेष ध्यान देते है | खासकर ऐसे लोग उन उत्पादों को वरीयता देते है, जिनके उत्पादन में किसी भी प्रकार के केमिकल्स का उपयोग न किया गया हो | वही दूसरी तरफ किसान भी अपनी भूमि की उर्वरता को बनाये रखनें के लिए जीरो बजट (Zero Budget) खेती की तरफ अग्रसर हो रहे हैं। यहाँ तक कि हमारे देश के कई राज्यों के किसान भाइयों नें जीरो बजटखेती करना शुरू कर दिया है | जीरो बजट खेती के अंतर्गत किसानों द्वारा सिर्फ उनके द्वारा निर्मित खाद्य पदार्थ और अन्य चीजों का उपयोग खेती के दौरान किया जाता है |

ऑर्गेनिक खेती क्या होती है

जीरो बजट (Zero Budget) खेती क्या है

जीरो बजट खेती एक प्रकार की रासायनिक मुक्त खेती है, जहां फसलों को उगाने में केमिकल तत्वों, उर्वरकों और कीटनाशकों का उपयोग नही किया जाता है | दूसरे शब्दों में, जीरो बजट खेती के तहत फसलों के उत्पादन में केमिकल (रासायनिक खादों) के स्थान पर प्राकृतिक खाद का उपयोग किया जाता है और यह खाद स्वयं किसानों द्वारा तैयार की जाती है | 

जीरो बजट खेती मुख्य रूप से महाराष्ट्र के किसान सुभाष पालेकर द्वाराविकसित केमिकल मुक्त कृषि का एक रूप है | इन्ही के नाम पर इसे सुभाष पालेकर प्राकृतिक खेती या जीरो बजट नेचुरल खेती कहा जाता है | दरअसल खेती की यह विधि पारंपरिक रूप से देसी गाय के गोबर और मूत्र पर आधारित है |

इस विधि से खेती करनें में रासायनिक उर्वरकों, विभिन्न प्रकार के कीटनाशकों और अधिक सिंचाई की जरुरत नही होती है | जिसके कारण फसलों के उत्पादन में लागत काफी कम हो जाती है, इसी वजह से इस खेती को जीरो बजट खेती कहा जाता है |  इस प्रकार की खेती में घरेलू संसाधनों द्वारा निर्मित खाद का उपयोग किया जाता है, जिससे किसानों को फसलों के उत्पादन में खर्चा काफी कम आता है, जिससे किसानों को स्वाभाविक रूप से लाभ अधिक प्राप्त होता है | जीरो बजट प्राकतिक खेती का आधार जीव-अमृत है, जो कि देशी गाय के मॉल अर्थात गोबर, मूत्र और पत्तियों से तैयार किया जानें वाला कीटनाशक का मिश्रण है |  

सुभाष पालेकर (Subhash Palekar) कौन है

सुभाष पालेकर (भारतीय कृषक और पद्म श्री प्राप्तकर्ता) एक पूर्व कृषि वैज्ञानिक हैं,और इन्हें जीरो बजट नेचुरल फार्मिंग का जनक कहा जाता हैं। पालेकर जी नें पारंपरिक भारतीय कृषि को लेकर कई शोध किये है और इन्ही शोधों से जीरो बजट प्राकृतिक खेती को लेकर अध्ययन किया था | अध्ययन के पश्चात पालेकर जी नें 60 से अधिक भाषाओं में जीरो बजट नेचुरल फार्मिंग पर किताबें लिखी है | इस सभी किताबों में जीरो बजट फार्मिंग के बारें में विधिवत रूप से बताया गया है | इन पुस्तकों के माध्यम से कोई भी किसान भाई जीरो बजट प्राकृतिक खेती के बारें में जानकारी प्राप्त कर सकता है |

जीरो बजट खेती के 4 स्तंभ (4 Pillars of Zero Budget Farming)

जीरो बजट फार्मिंग के अंतर्गत खेती के दौरान 4 तकनीकों का प्रयोग किया जाता है, जो इस प्रकार है- 

जीवामृत (Jeevamrit)

जीवामृत जीरो बजट खेती का पहला और महत्वपूर्ण स्तंभ है। जीवामृत की सहायता से भूमि को पोषक तत्वों को प्राप्ति होती है और यह उत्प्रेरक एजेंट की भांति कार्य करता है | जिससे भूमि में सूक्ष्मजीवों की गतिविधियां बढ़ जाती है और फसलों का उत्पादन बढ़ जाता है | इसके अलावा जीवामृत की सहायता से पेड़-पौधों को कवक और अन्य प्रकार के रोगों से बचाया जा सकता है |

जीवामृत कैसे बनाया जाता है (How The Living is Created)

जीवामृत बनानें के लिए सबसे पहले एक बड़े बर्तन में 200 लीटर पानी लें | इसके बाद पानी में लगभग 10 किलो गाय का ताजा गोबर और वृद्ध गाय का मूत्र 8 से 10 लीटर तक, 2 किलो पल्स का आटा, 2 किलो ब्राउन शुगर और मट्टी को मिला दें | यह सभी चीजे मिलाने के बाद इस मिश्रण को 45 से 48 घंटों के लिए छाया में रख दें | इसके बाद आप इस मिश्रण का इस्तेमाल कर सकते है |

बीजामृत (Bijamrit)

बीजामृत जीरो बजट खेती का दूसरा स्तंभ है। यह तंबाकू, हरी मिर्च और नीम के पत्तों के गूदे का मिश्रण है, जिसका उपयोग कीड़ों और कीट नियंत्रण के लिए किया जाता है। इसका उपयोग बीजों के उपचार के लिए किया जाता है, और यह बीजों को प्राकृतिक सुरक्षा प्रदान करता है।

बीजमृत का इस्तेमाल कैसे किया जाता है (How Seed mirrors Are Used)

फसलों के बीजो को खेत में बोनें से पहले सभी बीजों में बीजामृत को अच्छी तरह से लगा दें और उन्हें सूखनें के लिए छोड़ दें | जब बीजों पर लगा बीजामृत का मिक्चर पूरी तरह से सूख जाएँ, तब आप इन बीजों को खेतों में बो सकते है |

अच्चादान-मल्चिंग (Achadan Mulching)

अच्छादाना (मल्चिंग) जीरो बजट खेती का तीसरा स्तंभ है। यह मिट्टी में नमी की मात्रा को बनाए रखने में मदद करता है। यह स्तंभ मिट्टी की खेती के आवरण की रक्षा करने में मदद करता है और इसे जुताई करके बर्बाद नहीं करता है।मल्चिंग 3 प्रकार की होती है, इसका विवरण इस प्रकार है-

  • स्ट्रॉ मल्च- कृषि कार्यों के दौरान मिट्टी की ऊपरी सतह (Upper surface) को किसी प्रकार की हानि न पहुंचे, इसके लिए मृदा मल्च का उपयोग किया जाता है | इसके साथ ही मिट्टी के आसपास और मिट्टी को एकत्र कर रखा जाता है, ताकि मिट्टी की जल प्रतिधारण क्षमता (Water retention capacity) को और बेहतर बनाया जा सके | 
  • स्ट्रॉ मल्च- स्ट्रॉ अर्थात भूसा सबसे अच्छी मल्च सामग्री में से एक है और भूसे मल्च का प्रयोग सब्जियों के पौधों को उगानें में अधिक किया जाता है | किसान भाई धन और गेंहूँ के भूसे का उपयोग सब्जी की खेती के दौरान कर सब्जियों की अच्छी फसल उगा सकते है |
  • लाइव मल्चिंग- लाइव मल्चिंग प्रक्रिया के अंतर्गत आप एक खेत में विभिन्न प्रकार के पौधों को उगा सकते है | सबसे खास बात यह है, कि यह सभी पौधे एक दूसरे पौधों की वृद्धि में सहायक होते है | उदाहरण के तौर पर जैसे – कॉफी और लौंग के पौधों को बढनें के लिए पूर्ण रूप से सनलाइट की आवश्यकता नहीं होती है | जबकि गेहूंगन्ना और मक्के के पौधे को बढनें के लिए फुल सनलाइट की आवश्यकता होती है |  लाइव मल्चिंग प्रोसेस के अंतर्गत एक साथ 2 ऐसे पौधों को लगाया जाता है, जिसमें से कम धूप लेने वाले पौधों को अपनी छाया प्रदान करते हैं | 

जैविक खाद (Organic Fertilizer) कैसे बनता है

व्हापासा (Whapasa)(भाप)

पालेकर जी के द्वारा लिखित पुस्तकों में स्पष्ट रूप से कहा गया है, कि पौधों की ग्रोथ के लिए अधिक जल की आवश्यकता नही होती है और पौधे व्हापासा अर्थात भाप की सहायता से ग्रोथ कर सकते है | व्हापासा एक ऐसी स्थिति होती है, जिसमें हवा अणु है और जल के अणु मिट्टी में मौजूद होते है और इन दोनों अणुओं की सहायता से पौधे का विकास हो जाता है |

जीरो बजट खेती और किसानों की आय (Zero Budget Farming and Farmers Income)

  • जीरो बजट प्राकृतिक खेती की प्रमुख विशेषता यह है, कि उत्पादन की लागत शून्य है और किसानों को खेती की इस पद्धति को शुरू करने के लिए कोई इनपुट खरीदने की आवश्यकता नहीं है।
  • पारंपरिक तरीकों के विपरीत, शून्य बजट प्राकृतिक खेती में केवल 10 प्रतिशत पानी का उपयोग किया जाता है, जो कि पूर्व विधि में उपयोग किया जाता है।
  • चूंकि यह 30 एकड़ भूमि के लिए गाय की भारतीय स्थानीय नस्ल के उपयोग को बढ़ावा देता है, यह किसान के लिए अपेक्षा से पहले लाभ अर्जित करना संभव बनाता है।
  • पालेकर द्वारा यह सुझाव दिया कि जीरो बजट खेती से सिंचित क्षेत्रों में ₹6 लाख प्रति एकड़ और गैर सिंचित क्षेत्रों में Rs 1.5 लाख की आय हो सकती है।
  • चूंकि जीरो बजट प्राकृतिक खेती कृषि जलवायु क्षेत्रों के सभी क्लाइमेट को कवर करती है, इसलिए इसे सभी प्रकार की फसलों के लिए उपयुक्त बताया गया है।
  • जीरो बजट खेती को किसानों पर कर्ज के दबाव को कम करने के लिए भी देखा जाता है क्योंकि उन्हें अपनी खेती के लिए कोई इनपुट खरीदने के लिए ऋण नहीं लेना पड़ता है।
  • किसानों को प्रति एकड़ अधिक पैसा कमाने की संभावना है और गांवों से शहरों की ओर पलायन में कमीं हो सकती है।

जीरो बजट खेती के बारे में महत्वपूर्ण विवरण (Zero Budget FarmingImportant Details)

जीरो बजट प्राकृतिक खेती में किस पद्धति का  उपयोग किया जाता है?‘जीवमृत’ का उपयोग किया जाता है, जीवामृत मिश्रण है- ताजा देसी गाय का गोबरवृद्ध देसी गोमूत्रगुड़दाल का आटापानी औरधरती
जीरो बजट प्राकृतिक खेती में प्रयोग होने वाली जीवामृत का क्या उपयोग है?यह मिट्टी में पोषक तत्वों को जोड़ने में मदद करता है और मिट्टी में माइक्रोबियल गतिविधियों को उत्प्रेरित करने में भी मदद करता है।
जीरो बजट प्राकृतिक खेती में जीवामृत कैसे लागू होता है?लगभग 200 लीटर जीवामृत का छिड़काव महीने में दो बार प्रति एकड़ जमीन पर किया जाता है।
जीरो बजट प्राकृतिक खेती में किस गुणवत्ता की गाय की आवश्यकता होती है?पालेकर के अनुसार, एक स्थानीय भारतीय नस्ल की गाय 30 एकड़ भूमि के लिए पर्याप्त है
जीरो बजट प्राकृतिक खेती में रसायनों के स्थान पर किसका प्रयोग किया जाता है?बीज के उपचार के लिए ‘बीजमृत’ (बीजा का अर्थ बीज) नामक मिश्रण का उपयोग किया जाता है, जबकि नीम के पत्तों और लुगदी, तंबाकू और हरी मिर्च के एक अन्य मिश्रण का उपयोग कीटनाशक के रूप में किया जाता है।
अच्छादाना और व्हापासाका क्या अर्थ है?अच्छादाना मल्चिंग है, जो शून्य बजट प्राकृतिक खेती से जुड़ा है |जबकि व्हापासा एक ऐसी स्थिति है जहां मिट्टी में हवा के अणुओं और पानी के अणुओं दोनों की उपस्थिति होती है। व्हापासा सिंचाई आवश्यकताओं को कम करने में मदद करता है।
जीरो बजट प्राकृतिक खेती के क्या प्रयोग हैं?इस प्रकार की खेती में कम से कम लागत के अलावा, शून्य बजट प्राकृतिक खेती भी बढ़ावा देती है: मृदा वातनन्यूनतम पानीअंतर – फसलबंड और टॉपसॉयल मल्चिंग जीरो बजट खेती में सघन सिंचाई और गहरी जुताई को बढ़ावा नहीं दिया जाता है।
क्या जीरो बजट खेती में वर्मीकम्पोस्टिंग का उपयोग किया जाता है?नहीं, वर्मीकम्पोस्टिंग जो कि केंचुओं को जैविक अपशिष्ट रूपांतरण को बढ़ाने के साधन के रूप में उपयोग करने की एक विधि है, शून्य बजट प्राकृतिक खेती में समर्थित नहीं है। पालेकर ने उल्लेख किया कि वर्मी कम्पोस्टिंग में उपयोग किए जाने वाले यूरोपियन रेड विग्लर (सबसे आम कंपोस्टिंग केंचुआ) जहरीली धातु को अवशोषित करते हैं और मिट्टी को जहर देते हैं।
2024 तक 100 प्रतिशत प्राकृतिक खेती का अभ्यास करने वाला पहला राज्य बनने की योजना बनाने वाला भारत का राज्य कौन सा है?आंध्र प्रदेश

भारत में जीरो बजट खेती की शुरुआत किसने की (Who Started Zero Budget Farming in India?)?

यह मूल रूप सेपद्म श्री प्राप्तकर्ता सुभाष पालेकर द्वारा प्रचारित किया गया था, जिन्होंने इसे 1990 के दशक के मध्य में रासायनिक उर्वरकों और कीटनाशकों और गहन सिंचाई द्वारा संचालित हरित क्रांति के तरीकों के विकल्प के रूप में विकसित किया था। यह सुभाष पालेकर और राज्य किसान संघ कर्नाटक राज्य रायता संघ (KRRS) के बीच सहयोग के परिणामस्वरूप कर्नाटक में एक कृषि आंदोलन के रूप में विकसित हुआ। चूंकि इसे कर्नाटक में काफी सफलता मिली, इसलिए मॉडल को कई अन्य राज्यों मेंविशेष रूप से दक्षिण भारत में दोहराया गया।

जीरो बजट खेती और जैविक खेती में क्या अंतर (Zero Budget Farming and Organic Farming Difference?)

जैविक खेती में, जैविक खाद और खाद जैसे खाद, वर्मीकम्पोस्ट, गाय के गोबर की खाद आदि का उपयोग किया जाता है और बाहरी स्रोतों से खेत में जोड़ा जाता है। प्राकृतिक खेती में मिट्टी में न तो रासायनिक और न ही जैविक खाद मिलाया जाता है। वास्तव में मिट्टी में कोई बाहरी उर्वरक नहीं डाला जाता है। जैविक खेती के लिए अभी भी बुनियादी कृषि प्रथाओं जैसे जुताई, खाद का मिश्रण, निराई आदि की आवश्यकता होती है।

प्राकृतिक खेती में न तो जुताई होती हैऔर न ही कोई उर्वरक का उपयोग होता है। थोक खाद की आवश्यकता के कारण जैविक खेती अभी भी महंगी है, और इसका आसपास के वातावरण पर पारिस्थितिक प्रभाव पड़ता है |जबकि, प्राकृतिक कृषि एक अत्यंत कम लागत वाली कृषि पद्धति है, जो पूरी तरह से स्थानीय जैव विविधता के साथ ढाली जाती है।

जैविक कीटनाशक कैसे बनाएं

Leave a Comment